संगीत का कोई मज़हब, कोई ज़बान नहीं होती। 'रेडियोवाणी' ब्लॉग है लोकप्रियता से इतर कुछ अनमोल, बेमिसाल रचनाओं पर बातें करने का। बीते नौ बरस से जारी है 'रेडियोवाणी' का सफर।

Monday, January 14, 2013

“life of pi” की ऑस्‍कर नामांकित लोरी--बॉम्‍बे जयश्री की आवाज़...

आंग ली की फिल्‍म “life of pi”  के लिए बॉम्‍बे जयश्री को “ऑस्‍कर में best origional music” के वर्ग में नामांकित किया गया है। हालांकि हम ये नहीं मानते कि 'ऑस्कर' पुरस्‍कार उत्कृष्टता का सही और बेदाग़ पैमाना हैं कम से हम इस बात के लिए ख़ुश तो हो सकते हैं कि ऑस्‍‍कर में भारत की मौजूदगी हो सकी है। बॉम्‍बे जयश्री को हिंदी संगीत जगत कुछ चुनिंदा गानों के लिए पहचानता आया है।

बॉम्‍बे जयश्री या जयश्री रामनाथ से हमारा परिचय सबसे पहले हुआ था सन 2001 में... जब माधवन अभिनीत फिल्‍म आई थी 'रहना है तेरे दिल में'। इस फिल्‍म का सबसे लोकप्रिय गीत बना--'ज़रा-ज़रा बहकता है आज तो मेरा तन-बदन'। ये अपने आप में अलग तरह का गीत था....बॉम्‍बे जयश्री की आवाज़ में एक सोंधापन महसूस हुआ। उनकी आवाज़ का टेक्‍सचर एकदम अलग लगा। और हम अनायास ही इसकी तरफ आकर्षित होते चले गये।

तब इंटरनेटी डुबकी लगाने पर उनके बारे में बहुत कुछ पता चला। और ये भी समझ आया कि
bombayjayashree-1दक्षिण के गायक-गायिकाओं के प्रति हम हिंदी-जगत के लिए लोग ज्‍यादातर कितने अनभिज्ञ रहते हैं। 'रहना है तेरे दिल में' के गाने के बाद ये यक़ीन करना मुश्किल लगा कि बॉम्बे जयश्री मशहूर वायलिन-वादक लालगुड़ी जयरमन की शिष्‍या हैं और कर्नाटक संगीत की एक मशहूर गायिका भी। उन्‍होंने दक्षिण की फिल्‍मों में भी इसी तरह के कमर्शियल गीत गाये। बाक़ायदा ग्‍लैमरस हीरोइन वाले गाने।

वरना हिंदी फिल्‍म संगीत में यही चलन रहा है कि शास्‍त्रीय-संगीत से जुड़े गायक-गायिकाओं को फिल्‍मों में बहुत ख़ास तरह के गीतों के लिए याद किया जाता है। इसलिए ये बहुत अदभुत लगा कि बॉम्‍बे जयश्री दक्षिण में एक सफल पार्श्‍व-गायिका भी हैं और कर्नाटक संगीत की एक महत्‍वपूर्ण गायिका भी। यानी दो अलग-अलग नौकाओं का कुशल संचालन।

जहां तक मेरी जानकारी है हिंदी में बॉम्‍बे जयश्री के दो-तीन गीत ही आये हैं। 'रहना है तेरे दिल में' का गीत--'ज़रा-ज़रा बहकता है'। फिल्‍म 'फोर्स' का गीत--'चाहूं भी तो मैं कैसे कहूं'.... और इन सबसे ऊपर है रेवती की फिल्‍म 'फिर मिलेंगे' का गीत--'खुल के मुस्कुरा ले तू'... जिसे प्रसून जोशी ने लिखा है और शंकर-अहसान-लॉय ने स्‍वरबद्ध किया है।



ये बताना ज़रूरी है कि बॉम्‍बे जयश्री ने “life of pi” की लोरी के तमिल बोल ख़ुद बॉम्‍बे जयश्री ने लिखे हैं और इसका संगीत तैयार किया है माइकल डाना ने। लोरी को सुनवाने से पहले ये देखा जाये कि ऑस्‍कर में उनका मुक़ाबला किन रचनाओं से है।

  • "Before My Time" from Chasing Ice
    singer: SCARLETT JOHANSSON & JOSHUA BELL
    Music and Lyric by J. Ralph
  • "Everybody Needs A Best Friend" from Ted
    singer: Norah Jones
    Music by Walter Murphy; Lyric by Seth MacFarlane
  • "Pi's Lullaby" from Life of Pi
    singer: bombay jayshri
    Music by Mychael Danna; Lyric by Bombay Jayashri
  • "Skyfall" from Skyfall
    Singer: Adele
    Music and Lyric by Adele Adkins and Paul Epworth
  • "Suddenly" from Les Misérables
    singer : Hugh Jackman
    Music by Claude-Michel Schönberg; Lyric by Herbert Kretzmer and Alain Boublil.
ये सभी रचनाएं यू-ट्यूब पर उपलब्‍ध हैं और लिंक पर क्लिक करके आप उन्‍हें देख-सुन सकते हैं। सनद रहे कि फिल्‍म 'टेड' की रचना पंडित रविशंकर की बेटी नोरा जोन्‍स ने गाई है।  इन्‍हें सुनकर आसानी से आपको ये अहसास हो जायेगा कि बॉम्‍बे जयश्री का ऑस्‍कर का रास्‍ता काफी मुश्किल है पर नामुमकिन नहीं। लगभग सभी रचनाएं कमाल की हैं। फिर ऑस्‍कर में अमेरिकन संवेदनाएं और समझ भी काम करती है।  

पर फिलहाल 'लाइफ़ ऑफ़ पाई' की ये लोरी सुनिए। जो भाषाओं की सरहद के पार जाती है। आप इसके तमिल बोलों को भले ना समझ सकें (जैसे कि इसके संगीतकार माइकल नहीं समझ सके होंगे और उन्‍हें किसी ने अंग्रेज़ी में इनका आशय समझाया होगा) पर इसमें जो जज़्बात हैं...वो आप तक ज़रूर पहुंचेंगे। एक लोरी की पवित्रता, मासूमियत और ममत्‍व इसमें छलक-छलक पड़ता है।

ये एक प्‍ले-लिस्‍ट है, जिसमें बॉम्‍बे जयश्री के बाक़ी कुछ गीत और इंटरव्‍यू भी है।




ये हैं इस गीत के तमिल बोल और उनका अंग्रेज़ी अनुवाद
Tamil:
kanne
kanmaniye
kann urangayo kanne
mayilo togai mayilo
kuyilo koovum kuyilo
nilavo nilavin oliyo
imayo imayin kanavo
malaro malarin amudo
kaniyo kaniyin suvayo


English:

Oh my love
Oh the delight of my eyes
would you not sleep my love?
are you the peacock or the plumage of the peacock?
are you the cuckoo or the cry of the cuckoo?
are you the moon or the light of the moon?
are you the eyelashes, or the dream?
are you the flower or the nectar?
are you the fruit or the sweetness?



MTV कोक-स्‍टूडियो पर बॉम्‍बे जयश्री ने महाभारत के भीष्‍म-पर्व से राग दुर्गा में कात्‍यायनी गायी थी। और उस्‍ताद राशिद ख़ां ने इसमें राग चारूकेशी में एक बंदिश साथ जोड़ी थी। इस प्रस्‍तुति को आप यहां क्लिक करके देख सकते हैं।


अगर आप चाहते  हैं कि 'रेडियोवाणी' की पोस्ट्स आपको नियमित रूप से अपने इनबॉक्स में मिलें, तो दाहिनी तरफ 'रेडियोवाणी की नियमित खुराक' वाले बॉक्स में अपना ईमेल एड्रेस भरें और इनबॉक्स में जाकर वेरीफाई करें।

3 comments:

प्रवीण पाण्डेय January 14, 2013 at 8:39 PM  

बहुत सुन्दर, हमारी शुभकामनायें अभी से..

Anonymous,  January 16, 2013 at 3:03 PM  

aachi jankari......-niharika

Post a Comment

if you want to comment in hindi here is the link for google indic transliteration
http://www.google.com/transliterate/indic/

Blog Widget by LinkWithin
.

  © Blogger templates Psi by Ourblogtemplates.com 2008 यूनुस ख़ान द्वारा संशोधित और परिवर्तित

Back to TOP